Hindi Poem on Corona - कोरोना पर कविता

नमस्कार दोस्तों, आज हमने कोरोना पर hindi poem लिखी है जैसे की कोरोना ने लोगो के जीवन को थाम सा दिया है और लोगों के मन में काफी डर सा भेठ गया है जिसको इस हिंदी Poem के द्वारा हराने की कोशिश की गई है की कैसे इस कोरोना से जीत सकते है। तो चलिए पढ़े { Corona poem in Hindi }

Hindi Poem on Corona


Poem on Corona in Hindi - कोरोना पर कविता


गमों में डूब रहा है शहर,

कलयुग में पनपा है ये कैसा कहर। 

हर मनुष्य पर हो रहा है इसका असर,

यह बीमारी तो फैली है भयंकर। 

अंधकारमय हो गई है आज दुनिया पूरी,

सुरक्षित रहने के लिए आपस में बनाए रखे दूरी। 

महासंकट के इस काल में धैर्य रखना है जरुरी,

हार न जाना चाहे कितनी भी हो मज़बूरी। 

समाप्त हो जाएगा ये कोरोना संकट,

अगर हम करेंगे सामना इसका डटकर। 

दिल और दिमाग से निकाल दो इसका डर,

बस लक्ष्मण रेखा खींच दो अपने घर। 

Conclusion:- 

दोस्तों इस आर्टिकल में आपने hindi poem on corona,   corona poem on  hindi पर लिखी एक हिंदी कविता पढ़ी हम आशा करते है, की  यह आर्टिकल  पसंद आया होंगा।  अगर आप poem लिखने में रुचि रखते है तो आप भी statushindime.com से जुड़ सकते है और यह आर्टिकल शेयर जरूर करे। 

यह भी पढ़े -


Post a Comment

0 Comments