Short Hindi Poem - एक कमरा { Best Hindi Poem }

नमस्कार दोस्तों, आज हम फिर हाज़िर है एक और हिंदी Short poem के साथ जो की एक कमरे पर लिखी है इसके साथ ही इस हिंदी Short poem में लोगों की परिस्तिथि को दर्शाया गया है आशा करता हूँ की आपको ये Short Hindi Poem पसंद आएगी तो चलिए शुरुआत करते है।

Short Hindi Poem


Short Hindi Poem - एक कमरा


एक बंद कमरा बहुत कुछ कहता है,

 अगर ध्यान से ढेखो कमरे की हर चीज में हमारा अक्स बसता है ।

 अगर कमरे की खिड़की से शुरू करे,

 और कमरे के अंत का सफ़र तय करे।

 हर एक वस्तु कुछ न कुछ कहना चाहती है,

 मानो हर वस्तु हमसे बात करना चाहती है।

 चलो फिर अपने कमरे की वस्तुओं की बाते करते है।

 इस खिड़की की अगर बात करे,

 तो यह राह से आने जाने वाले के दर्शन कराती है।

 यह जो कमरे की दीवार पर घडी है,

 इसकी टिक-टिक वक्त के हर पल को बताती है।

 वैसे तो इस घडी का समय बहुत तेज चलता है,

 पर जब किसी का इंतजार करते है,

 तो इस घडी की सुइयां एक ही समय पर थम सी जाती है।

 यह घडी हमसे यही चाहती है

 की हम इसके साथ साथ चले

 अपना कीमती समय हम हम यु बर्बाद न करे,

 यह हमें हमारे समय की अहमियत बताती है।

 अगर इस बल्ब को ध्यान से देखें,

 यह भी अपने बारे में कुछ कहना चाहता है ।

 इसके उजाले से पूरा कमरा जगमगा उठता है,

 अगर कभी लाइट चली जाएं तो पूरा अँधेरा हो जाता है,

 तब हमें इसकी रौशनी की अहमियत का पता चलता है।

 हमारी जिंदगी में भी तो कुछ ऐसा होता है,

 कभी गम का अँधेरा छा जाता है,

 तो कभी खुशियां का उजाला होता है।

 जब हम अपने आस पास ध्यान से देखते है

तब पता चलता है की हर एक चीज बाते करना चाहती है।

 हर एक वस्तु अपना अलग महत्व रखती है,

 हमारी हर चीज हमसे जुड़ी हुई होती है।

 बस हमें उसे समझने की देर होती है,

 हमारे कमरे की किताबे, परदे, पंखे,किचन हर जगह से खास लगाव होता है,

 हर एक कोने से हमारा नाता जुड़ जाता है।

 इसलिए हम अपने साथ-साथ अपने से जुड़ी चीजो का भी ध्यान रखना चाहिए ।

 अपनी हर चीज का महत्व समझों,

 उसे सिर्फ वस्तु की तरह इस्तेमाल मत करो,

 उसकी अहमियत समझकर उसको भी प्यार से रखो।


निष्कर्ष - दोस्तों आज की हमारी एक कमरा - Short Hindi Poem कैसी लगी? आशा करता हु आपको यह hindi Poems पसंद आई होगी ऐसी Hindi Poems and Poetries के लिए इस साइट पर विजिट जरूर करे।

यह भी पढ़े -



Post a Comment

0 Comments